Ticker

6/recent/ticker-posts

बचत कमाई को बनाये Money Saving Power


बचत कमाई को सुरक्षित करे





बचत कमाई करने के चक्कर में बड़े से बड़े और छोटे से छोटे लोगो का दिमाग खास कर अपनी सेविंग करने में ही लगा रहता है. आपने देखा होगा जब भी त्यौहार आते ही सबसे ज्यादा सक्रिय होता है बाजार. दिवाली पर जरा समझदारी से काम ले. ताकि आपकी बचत योजना का दिवाला न निकल जाए.






एप्प डाउनलोडिंग का ध्यान रखे





बड़ी संख्या में मार्केटिंग कंपनिया अपना एप्प डाउनलोड करने के लिए उकसाती है और एप्प से खरीदारी करने पर अच्छा खासा अतिरिक्त डिस्काउंट देने का वादा भी करती है. जैसे ही आप एप्प डाउनलोड करती है आपके पास नियमित रूप से नई प्रोडक्ट स्कीम, तरह-तरह के अर्ली बर्ड डिस्काउंट आदि के मेसेज आने लगते है. ऐसा होने पर आप कई बार बिना जरुरत का सामान भी खरीद लेती है.





हड़बड़ी से गलत निर्णय ना ले





मार्केटिंग स्ट्रेटजी के तह विक्रेता ललचाता है कि मात्र पन्द्रह मिनट के लिए ही यह ऑफर है या फिर सिर्फ आज के लिए ही यह छूट है या गिने-चुने शुरुआती २५ पीस पर ही इस छुट का फायदा दिया गया है, जिसमे से २३ बिक भी चुके है. ऐसे में आप घबरा जाती है कि कहीं अच्छा खासा ऑफर मिस न कर जाए और जल्दीबाजी में प्रोडक्ट बुक कर देती है.





बचत कमाई





फ्री सेम्पल के फंदे को जरुर याद रखे





बाजार या माल्स में अक्सर आपने किसी प्रोडक्ट निर्माता के प्रतिनिधियों को फ्री सैंपल बांटते देखा होगा या चाय, काफी फ्लेवर्ड टी, ज्यूस, सूप आदि चखाने देखा होगा. इसके पीछे स्ट्रेटजी ग्राहकों को ज्यादा देर तक माल में टिकाये रखने और इन स्टाइल के आस पास रखे अन्य प्रोडक्टस की तरह उनक ध्यान आकर्षित करने की होती है.





भूलभूलैया में उलझाने के काम





आजकल स्टोर कुछ इस तरह डिजाईन किये जाते है कि ग्राहक भीतर भटक सा जाता है. इस बीच वह फिर से तमाम प्रोडक्ट्स के बीच से गुजरता है तो कई बार कुछ न कुछ खरीद ही लेता है क्योकि जाते समय कीमत देख चुकने के बाद जब वह वापस आता है तो उसे कीमते जानी पहचानी और वाजिब लगने लगती है.





आपने बहुत बार देखा होगा कि किसी आइटम की एक पीस की कीमत कुछ अधिक होती है लेकिन उसका इकोनॉमिकल पैक, जिसमे तीन या चार पीस होते है, वो दो चार रुपए सस्ता पड़ जाता है. आप सस्ते के चक्कर में इकोनोमिकल पैक खरीद लेती है तो घर में जरुरत से ज्यादा समान ले जाती है. यकीन मानिए गहर में बहुतायत में कोई चीज रखी होती है तो हम उसका इस्तेमाल भी कुछ ज्यादा ही खुले हाथ से करने लगते है.


Post a comment

0 Comments